Category:

आज नहीं कल

आज नहीं कल की आदत काँच सरीखे उन ख़्वाबों की तरह होते हैं, जिस पर न जाने कब कौन पत्थर का इक टुकड़ा उठाकर चला दे और सब चकनाचूर हो Continue Reading

Posted On :

किताबें

किताब जीवन की वो सच्ची दोस्त होती हैं, जो हमारी सारी भावनाओं को महसूस करने का या कहें उन्हें जीने का मौका देती हैं। ये किताबें महज़ कागज़ का बंडल Continue Reading

Posted On :