राहुल गाँधी

हमने मोदी जी पे कई सारे पोस्ट देखे है, जिसमे लिखा होता है की अगर मोदी जी को वोट की राजनीति करनी होती तो वो कभी नोट बंदी और GST नहीं लाते देश में|तो इसी तंज पे मै बताता हु की अगर कांग्रेस को सत्ता में आना होता तो वो बहुत सारी बाते नहीं बोलती जो देश विरोधी मन जाता है, जैसे की:-

कांग्रेस को वोट ही लेना होता तो सत्ता में रहते हुए भगवन राम को कभी काल्पनिक नहीं बताते और आज वही कांग्रेस मंदिर का ढोंग कर रही है जैसे देश की जनता पप्पू हो कुछ समझ न हो| कांग्रेस को वोट ही लेना होता तो वो 2G स्पेक्ट्रम, कॉमनवेल्थ घोटाला नहीं करती| वोट ही लेना होता तो दामाद जी को जमीन अतिक्रमण नहीं करने देती| अगर कांग्रेस को वोट ही चाहिए होता तो वो आतंकियों के पक्ष में कड़ी नहीं होती| अगर राहुल को हिन्दू होने का प्रमाण देना पड़ रहा तो उसके जिम्मेदार वो खुद है, अमेरिकी राजदूत से हिन्दू आतंकवाद का नाम लेना बहुत बड़ी बात थी, यही वजह है की उन्ही हिंदुवो के मंदिर मंदिर भटक रहे है|

सबसे बड़ी बात की अगर इन्हे वोट लेना होता तो सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाकर सेना के पराक्रम पर उंगली नहीं उठाती| इतना ही देशप्रेमी कांग्रेस है तो पत्थर मारने के प्रति हमदर्दी नहीं जताती|
अगर उसे वोट ही लेना होता तो वो आज़ादी के बाद लगभग 65 साल सत्ता में ही अगर उसे वोट का ही लालच होता तो वो देश को अमेरिका, चीन के बराबर खड़ा कर देती, ना कोई किसान गरीबी से मरता ना ही बेघर रहता| हां आखरी और सबसे जरुरी बात अगर कांग्रेस को वोट ही लेना होता तो वो कभी राहुल गाँधी या ये कहे की देश के पप्पू को पार्टी का अध्यक्ष नहीं बनाती|

बात पाकिस्तान के चुनाव की है जब हाफिज़ मुहम्मद सईद जैसे आतंकी को पाकिस्तान के लोगो ने एक भी सीट ना जीता कर अपने पढ़े लिखे होने है परिचय दिया था, वैसे ही अब 2019 में कांग्रेस को साफ़ कर के भारत की जनता भी अपने पढ़े लिखे होने का परिचय देगी, चुकि कांग्रेस आतंकी पार्टी नहीं है लेकिन मैंने आतंकियों को मारे जाने पर कांग्रेस का विधवा विलाप देखा है|तो 2019 का चुनाव भारत के लोगो के लिए भी खासहोने वाला है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.