कोई ख़ुशबू पास रहती है

2
2070
views

कोई ख़ुशबू पास रहती है,

जब भी वो सामने होती है।

वक़्त मानो थम-सा गया हो,

जब भी वो मुस्कुराती है।।

कोई ख़ुशबू पास रहती है,

जब भी वो कोई गीत गुनगुनाती है।

गुल मानो खिल-सा गया हो,

जब भी वो इतराती है।।

कोई ख़ुशबू पास रहती है,

जब भी वो याद आती है।

ख़ार मानो चुभ-सा गया हो,

जब भी वो दूर होती है।।

कोई ख़ुशबू पास रहती है,

जब भी वो सपनों में आती है।

शमां मानो बुझ-सा गया हो,

जब भी वो बेज़ार होती है।।

2 COMMENTS

  1. Estéticamente me parece muy bonita, pero personalmente cambiaría la ubicacion de la cocina tipo Aga. Al lado de una puerta es lo peor, hay que contar con las corrientes de aire y lo que se ve a través de la puerta parece un salón…Odio la mezcla de olores, especialmente los propios de baño y cocina cuando se mezclan con salas relacionadas con el solaz y el descanso (salones y dormitorios especialmente).

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.